Reviews

द-लाल, लेखक: विपिन तिवारी

उपन्यास मुझे खूब खूब पसंद आया.. उपन्यास काफी मेहनत से लिखा गया है इसमें कोई शक नहीं.

Advertisements
Poetry

आत्म संवाद

कभी तो होगी इस रात की सुबह प्रिय, कभी तो छटेंगा अंधेरा इस कालिमा का!

Poetry

विद आउट मैन

विद आउट मैन (कहानी संग्रह)लेखिका: गीता पंडितमैं ज्यादातर समय से पढ़ नहीं पा रहा था.. इस किताब के शीर्षक ने मुझे थोडा आकर्षित किया तो पढने से खुद को रोक नहीं पाया और अपनी बहुत ज्यादा व्यस्त दिनचर्या से भी वक़्त निकल के पढ़ ही डाला..इस किताब में कुल 8 कहानियां हैं, और हर एक… Continue reading विद आउट मैन

Poetry

कौवों का हमला – अजय सिंह ‘रावण’

कौवों का हमलालेखक: अजय सिंह ‘रावण’मैं बाल साहित्य को छोटी छोटी कहानियों के रूप में पढना ज्यादा पसंद करता हूँ, बाल ‘उपन्यासों’ ने मुझे बचपन से अभी तक कभी प्रभावित नहीं किया, पता नहीं क्यों बोरिंग लगा करती थी, हालाँकि इस किताब को पढने के बाद मेरा विचार बदल गया है.. अभी जब इस किताब… Continue reading कौवों का हमला – अजय सिंह ‘रावण’

Poetry

जो तुम कह दो

जो तुम कह दो तो दरिया का ये रुख भी मोड़ देंगे , जो तुम कह दो तो अम्बर को जमीं से जोड़ देंगे , जो तुम कह दो तो पत्थर भी सुन देंगे तराने , जमीं थिर्केगी पक्षी रात को भी चहचहा लें ..... जो तुम कह दो........ जो तुम कह दो. मणि